अजब गजब

पिता करते थे पत्थर तोड़ने का काम, बेटों ने झोपड़ी से निकलकर सेना में बनाई जगह


समाज के दो भाइयों का चयन भारतीय सेना में होने से हर कोई फक्र महसूस कर रहा है. झुग्गी झोपड़ियों से निकलकर दोनो भाइयों का भारतीय सेना में चयन होने के बाद पूरे परिवार के खुशी का कोई ठिकाना नहीं है. (मनमोहन सेजू/बाड़मेर)


Source link

एडवोकेट अरविन्द जैन

संपादक, बुंदेलखंड समाचार अधिमान्य पत्रकार मध्यप्रदेश शासन

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!